Saturday, April 9, 2011

छँटाई

एक आदमी ज़िंदगी भर जूते गाँठता है या उन पर करता है पॉलिश
एक आदमी ज़िंदगी भर कपड़े धोता है या उन पर करता है प्रेस
एक आदमी सिर पर बोझा ढोता है या ढोता है रिक्शे पर सवारियाँ
एक आदमी सड़क बुहारता है या कूड़े के ढेर में ढूँढ़ता है बिक सकने वाली कोई चीज़

ये और इन जैसे तमाम आदमी
और वे तमाम औरतें जो इन्हीं की तरह करती हैं ऐसे तमाम तरह के काम
कभी कलाकार नहीं माने जाते जबकि होते हैं वे अपने-अपने ढंग के कलाकार ही
उनका भी एक शिल्प होता है और होती है उनकी भी एक शैली
उनकी भी होती है एक भाषा जिसमें बनता है उनका काम एक रचना
उस रचना का भी होता है एक कथ्य और एक रूप
उसमें भी होती है सोद्देश्यता, सार्थकता और प्रासंगिकता भरपूर

लेकिन कोई उनकी कला की चर्चा नहीं करता
कोई नहीं आँकता उनका मूल्य
कोई नहीं लिखता उनका इतिहास और कोई नहीं होता उनका नामलेवा
क्योंकि उन्हें कलाकार ही नहीं माना जाता।

मगर क्यों?

इसलिए कि वे तो बहुत हैं
इतनों की कला कौन देखे कौन परखे?
इसलिए देखने-परखने वाले करते हैं छँटाई और बनाते हैं सिद्धांत

पहला सिद्धांत :
कलाकार तो लाखों में कोई एक ही होता है (मतलब, लाखों छाँट दिये!)
दूसरा सिद्धांत :
कारीगर कलाकार नहीं होते (मतलब, करोड़ों छाँट दिये!)
तीसरा सिद्धांत :
कलाकारों में भी सब श्रेष्ठ नहीं होते (मतलब, अरबों छाँट दिये!)
चौथा सिद्धांत :
श्रेष्ठ कलाकारों में भी सब महान नहीं होते (मतलब, खरबों छाँट दिये!)

इस तरह वे छँटाई करते जाते हैं
जब तक कि कलाकारों की संख्या उनके लिए मैनेजेबल न हो जाये
और इस तरह जो दो-चार या चार-पाँच या पाँच-सात नाम बचते हैं
उनमें से भी वे छाँटना चाहते हैं सर्वश्रेष्ठ
और सर्वश्रेष्ठ होता है वह जो उनकी अपनी कसौटी पर खरा उतरे
और कसौटी होती है उनकी अपनी-अपनी अलग
जिससे आगे भी छँटाई की गुंजाइश बनी रहती है!

--रमेश उपाध्याय

11 comments:

  1. इतना सब होने पर भी कलाकार तो कलाकार ही होता है।

    ReplyDelete
  2. इस तरह वे छँटाई करते जाते हैं
    जब तक कि कलाकारों की संख्या उनके लिए मैनेजेबल न हो जाये
    और इस तरह जो दो-चार या चार-पाँच या पाँच-सात नाम बचते हैं
    उनमें से भी वे छाँटना चाहते हैं सर्वश्रेष्ठ
    और सर्वश्रेष्ठ होता है वह जो उनकी अपनी कसौटी पर खरा उतरे
    और कसौटी होती है उनकी अपनी-अपनी अलग
    जिससे आगे भी छँटाई की गुंजाइश बनी रहती है!
    _____________________________________________


    बिल्कुल सही पर कितनी भी छँटाई करलो कलाकार तो कलाकार ही रहेगा।

    ReplyDelete
  3. भ्रष्टाचारियों के मुंह पर तमाचा, जन लोकपाल बिल पास हुआ हमारा.

    बजा दिया क्रांति बिगुल, दे दी अपनी आहुति अब देश और श्री अन्ना हजारे की जीत पर योगदान करें आज बगैर ध्रूमपान और शराब का सेवन करें ही हर घर में खुशियाँ मनाये, अपने-अपने घर में तेल,घी का दीपक जलाकर या एक मोमबती जलाकर जीत का जश्न मनाये. जो भी व्यक्ति समर्थ हो वो कम से कम 11 व्यक्तिओं को भोजन करवाएं या कुछ व्यक्ति एकत्रित होकर देश की जीत में योगदान करने के उद्देश्य से प्रसाद रूपी अन्न का वितरण करें.

    महत्वपूर्ण सूचना:-अब भी समाजसेवी श्री अन्ना हजारे का समर्थन करने हेतु 022-61550789 पर स्वंय भी मिस्ड कॉल करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे. पत्रकार-रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना हैं ज़ोर कितना बाजू-ऐ-कातिल में है.

    ReplyDelete
  4. कविता की शुरुआत बहुत खूबसूरत है

    ReplyDelete
  5. देश और समाजहित में देशवासियों/पाठकों/ब्लागरों के नाम संदेश:-
    मुझे समझ नहीं आता आखिर क्यों यहाँ ब्लॉग पर एक दूसरे के धर्म को नीचा दिखाना चाहते हैं? पता नहीं कहाँ से इतना वक्त निकाल लेते हैं ऐसे व्यक्ति. एक भी इंसान यह कहीं पर भी या किसी भी धर्म में यह लिखा हुआ दिखा दें कि-हमें आपस में बैर करना चाहिए. फिर क्यों यह धर्मों की लड़ाई में वक्त ख़राब करते हैं. हम में और स्वार्थी राजनीतिकों में क्या फर्क रह जायेगा. धर्मों की लड़ाई लड़ने वालों से सिर्फ एक बात पूछना चाहता हूँ. क्या उन्होंने जितना वक्त यहाँ लड़ाई में खर्च किया है उसका आधा वक्त किसी की निस्वार्थ भावना से मदद करने में खर्च किया है. जैसे-किसी का शिकायती पत्र लिखना, पहचान पत्र का फॉर्म भरना, अंग्रेजी के पत्र का अनुवाद करना आदि . अगर आप में कोई यह कहता है कि-हमारे पास कभी कोई आया ही नहीं. तब आपने आज तक कुछ किया नहीं होगा. इसलिए कोई आता ही नहीं. मेरे पास तो लोगों की लाईन लगी रहती हैं. अगर कोई निस्वार्थ सेवा करना चाहता हैं. तब आप अपना नाम, पता और फ़ोन नं. मुझे ईमेल कर दें और सेवा करने में कौन-सा समय और कितना समय दे सकते हैं लिखकर भेज दें. मैं आपके पास ही के क्षेत्र के लोग मदद प्राप्त करने के लिए भेज देता हूँ. दोस्तों, यह भारत देश हमारा है और साबित कर दो कि-हमने भारत देश की ऐसी धरती पर जन्म लिया है. जहाँ "इंसानियत" से बढ़कर कोई "धर्म" नहीं है और देश की सेवा से बढ़कर कोई बड़ा धर्म नहीं हैं. क्या हम ब्लोगिंग करने के बहाने द्वेष भावना को नहीं बढ़ा रहे हैं? क्यों नहीं आप सभी व्यक्ति अपने किसी ब्लॉगर मित्र की ओर मदद का हाथ बढ़ाते हैं और किसी को आपकी कोई जरूरत (किसी मोड़ पर) तो नहीं है? कहाँ गुम या खोती जा रही हैं हमारी नैतिकता?

    मेरे बारे में एक वेबसाइट को अपनी जन्मतिथि, समय और स्थान भेजने के बाद यह कहना है कि- आप अपने पिछले जन्म में एक थिएटर कलाकार थे. आप कला के लिए जुनून अपने विचारों में स्वतंत्र है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में विश्वास करते हैं. यह पता नहीं कितना सच है, मगर अंजाने में हुई किसी प्रकार की गलती के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ. अब देखते हैं मुझे मेरी गलती का कितने व्यक्ति अहसास करते हैं और मुझे "क्षमादान" देते हैं.
    आपका अपना नाचीज़ दोस्त रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा"

    ReplyDelete
  6. दीजिए हमारा साथ एक ऐसी मुहिम मेँ जहाँ हम देँगे मुँहतोड जवाब उन पापियोँ को जो तुले हैँ हमारी भारत माता को बदनाम करने मेँ
    http://bloggers-adda.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    ReplyDelete
  8. श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
    श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

    ReplyDelete
  9. प्रिय दोस्तों! क्षमा करें.कुछ निजी कारणों से आपकी पोस्ट/सारी पोस्टों का पढने का फ़िलहाल समय नहीं हैं,क्योंकि 20 मई से मेरी तपस्या शुरू हो रही है.तब कुछ समय मिला तो आपकी पोस्ट जरुर पढूंगा.फ़िलहाल आपके पास समय हो तो नीचे भेजे लिंकों को पढ़कर मेरी विचारधारा समझने की कोशिश करें.
    दोस्तों,क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से
    श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी लगाये है.इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
    क्या ब्लॉगर मेरी थोड़ी मदद कर सकते हैं अगर मुझे थोडा-सा साथ(धर्म और जाति से ऊपर उठकर"इंसानियत" के फर्ज के चलते ब्लॉगर भाइयों का ही)और तकनीकी जानकारी मिल जाए तो मैं इन भ्रष्टाचारियों को बेनकाब करने के साथ ही अपने प्राणों की आहुति देने को भी तैयार हूँ.
    अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?
    यह टी.आर.पी जो संस्थाएं तय करती हैं, वे उन्हीं व्यावसायिक घरानों के दिमाग की उपज हैं. जो प्रत्यक्ष तौर पर मनुष्य का शोषण करती हैं. इस लिहाज से टी.वी. चैनल भी परोक्ष रूप से जनता के शोषण के हथियार हैं, वैसे ही जैसे ज्यादातर बड़े अखबार. ये प्रसार माध्यम हैं जो विकृत होकर कंपनियों और रसूखवाले लोगों की गतिविधियों को समाचार बनाकर परोस रहे हैं.? कोशिश करें-तब ब्लाग भी "मीडिया" बन सकता है क्या है आपकी विचारधारा?

    ReplyDelete
  10. http://www.apnimaati.com/2011/05/blog-post_1300.html WE HAVE SHARED THIS POM HERE FOR OUR PATHAK

    ReplyDelete
  11. ਕਵਿਤਾ ਤੇ ਵਿਚਾਰ ਏਨੇ ਬਿਹਤਰ ਹਨ ਕਿ ਤੁਹਾਡੀ ਇਜਾਜ਼ਤ ਦੇ ਬਿਨਾਂ ਹੀ ਆਪਣੇ ਬਲਾਗ ਲਿੱਪੀ-ਅੰਤਰ ਜਿਹੜਾ mereanuwad.blogspot.com ਵਿਚ ਵੇਖਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਪਾ ਦਿੱਤਾ ਹੈ...ਉਮੀਦ ਹੈ ਨਾਰਾਜ਼ਗੀ ਦੀ ਜਗ੍ਹਾ ਸ਼ਾਬਾਸ਼ੀ ਹੀ ਦਵੋਗੇ। 094177-30600.

    ReplyDelete